Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2017 · 1 min read

गौरैया : नवगीत

नवगीत

*
जब उठ जाये दाना पानी!
उस मुंडेर पर बैठे रहना,
प्रिय गौरैया! है नादानी!!
*
जाने किसके मन में क्या है?
जग की बातें सभी निराली!
सबके सपने रंग बिरंगे,
लेकिन सबकी जीभें काली!
बूढ़ी दादी के दुःख को ही,
समझ न पायी बूढ़ी नानी!
*
द्वेष भरा है, दम्भ भरा है,
डस लेने की बेचैनी है!
हर तोते पर, हर कोयल पर,
आँखें गिद्ध रखे पैनी है!
आकर उड़ जाते हैं खंजन,
कौओं से भर जाती छानी!!
*
आँगन ठहरे दिन संन्यासी,
सुस्तायेंगे, निकल जायँगे!
कुछ मायावी बंधन सबको,
अजगर बनकर निगल जायेंगे!
बनते और बिगड़ते रिश्ते,
सारी बातें आनी जानी!!

जब उठ जाये दाना पानी!
*
डॉ.₹!मकुमा₹ ₹!मरि या, 18.6.16, प्रात: ४.३०, ‘नियति

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
"किनारे से"
Dr. Kishan tandon kranti
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
जिस्मौ के बाजार में दिलजार करते हो
जिस्मौ के बाजार में दिलजार करते हो
कवि दीपक बवेजा
#दुःखद_दिन-
#दुःखद_दिन-
*Author प्रणय प्रभात*
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
Ravi Prakash
2905.*पूर्णिका*
2905.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बाबा साहब आम्बेडकर
बाबा साहब आम्बेडकर
Aditya Prakash
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...