Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

गौरव है मेरा, बेटी मेरी

गौरव है मेरा, बेटी मेरी।
मेरी शान है , बेटी मेरी।।
बसी है मेरी जान , मेरी बेटी में।
जीवन है मेरा, बेटी मेरी।।
गौरव है मेरा——————-।।

देखा था सपना, मैंने जीवन में।
आये एक बेटी ,मेरे आँगन में ।।
साकार सपना , मेरा हो गया ।
मेरी दुहा है , बेटी मेरी।।
गौरव है मेरा——————।।

रोशन मेरा नाम, करेगी बेटी।
मेरा सिर ऊंचा , रखेगी बेटी।।
बनेगी सहारा , मुसीबत में मेरा।
रोशनी है घर की , बेटी मेरी।।
गौरव है मेरा———————-।।

यह दौलत मेरी ,मेरा यह घर।
बेटी का ही है , हक इन पर।।
नहीं कम बेटे से , मेरे लिए बेटी।
वारिस है मेरा , बेटी मेरी।।
गौरव है मेरा———————।।

नहीं दूर मुझसे ,होगी मेरी बेटी।
नहीं है पराई, मेरे लिए बेटी।।
मेरे घर का गुलशन , सितारा है बेटी।
सच में मिहीका है , बेटी मेरी ।।
गौरव है मेरा———————-।।

रचनाकार एवं लेखक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
Sunil Suman
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
ईद मुबारक़ आपको, ख़ुशियों का त्यौहार
ईद मुबारक़ आपको, ख़ुशियों का त्यौहार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
💐प्रेम कौतुक-341💐
💐प्रेम कौतुक-341💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
अनिल अहिरवार"अबीर"
आया होली का त्यौहार
आया होली का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
"नेवला की सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
Loading...