Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2023 · 1 min read

गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला

गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
क्योंकि ये दर्द मुझको मेरे अपनों से मिला
जिन अपनों के लिए मैं पूरा ख़ाक हो गया
जारी है उनका अब भी सताने का सिलसिला

कवि आजाद मंडौरी

1 Like · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
2994.*पूर्णिका*
2994.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
Akshay patel
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"वे खेलते हैं आग से"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
💐अज्ञात के प्रति-70💐
💐अज्ञात के प्रति-70💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
#आह्वान_तंत्र_का
#आह्वान_तंत्र_का
*Author प्रणय प्रभात*
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बात बस कोशिशों की है
बात बस कोशिशों की है
Dr fauzia Naseem shad
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
शाकाहार बनाम धर्म
शाकाहार बनाम धर्म
मनोज कर्ण
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...