Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

4. गुलिस्तान

हर रात तनहाई में दिल को बुझाकर हौले से,
जागा था अश्कों को छुपाकर सीने में मेरे;
खतों में अश्क किसी और के होते थे क्या,
तनहाई भरी रातें भी थी शामिल जिनमें।

मज़दूरों की बस्ती में हम तेरे आशिक बन के फिरे,
इश्क की मिट्टी का घरौंदा और खुश्बू तुम्हारी;
खतों में समर्पण किसी और का था क्या,
आधा वो घरौंदा था शामिल जिनमें।

बरामदे तुम्हारे छान आया हूँ मेरा ज़िक्र नहीं वहाँ,
खतों में शामिल कोई और था बरामदे की वो शाम थी जिनमें;
वो ताज्जुब करते रहे आबाद गुलिस्तान की सूरत पर,
हम हैरान होते रहे वो गुलिस्तान कभी हमारा था।

~राजीव दुत्ता ‘घुमंतू’

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
" पलास "
Pushpraj Anant
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
"बात पते की"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
मेरी (ग्राम) पीड़ा
मेरी (ग्राम) पीड़ा
Er.Navaneet R Shandily
लाखों ख्याल आये
लाखों ख्याल आये
Surinder blackpen
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
Loading...