Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

गुलामी के कारण

परबुधिया रिहिस अनपढ किसान।
परदेशिया करा बदय फट मितान।।

जेकर फल पाइस देश गुलाम
दुख भोगिस अनपढ़ किसान

पहिली जमाना चुतिया बनय
खासअनपढ़ रहे गा किसान
आंखी मुंद के दस्तखत करय
नइ लेवय गा थोरको हिसाब

आंखी रही अंधरा राहय घलो सियान।
विश्वास करय अऊ फट बदय मितान।।

पहिली जमाना चुतिया बनय
अनपढ़ रहय जम्मो किसान।
नइ छोड़य बैरी मन गा सउहे
खुद अपन बंदे राहय मितान।।

धीरे-धीरे वोमन जान डरिस
सनातनी के सुघ्घर बेवहार।
फुट डार के तब राज करिस
तब भारत होइस गा गुलाम।।

भारत के अंदर सोना चांदी
सनातन के खजाना हे ज्ञान
जला दीस ,चोरा लिस हमर
रामायण गीता सनातन बेद पुरान।
परबुधिया रिहिस अनपढ किसान ।।

डॉ विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
2 Likes · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
2449.पूर्णिका
2449.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
होली
होली
Dr Archana Gupta
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
*मिला है जिंदगी में जो, प्रभो आभार है तेरा (मुक्तक)*
*मिला है जिंदगी में जो, प्रभो आभार है तेरा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
संदेशा
संदेशा
manisha
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
*Author प्रणय प्रभात*
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
ये ज़िंदगी
ये ज़िंदगी
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
छल.....
छल.....
sushil sarna
Loading...