Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

गुलदस्ता नहीं

गुलदस्ता नहीं
बाग बनाओ जीवन को

चह- चह करती
चिड़िया जिसमें
प्रातःखिलती
कलियाँ उसमें
एक नया फिर
राग बनाओ जीवन को

सर्दी के संग
गर्मी झेले
सीने पर
ओले भी लेले
काम पड़े तो
आग बनाओ जीवन को

लोहा जैसे
काटे लोहा
बने प्रदूषण
उम्र का दोहा
साँसों का वह
भाग बनाओ जीवन को

.

1 Like · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
खुद को पाने में
खुद को पाने में
Dr fauzia Naseem shad
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मरने के बाद करेंगे आराम
मरने के बाद करेंगे आराम
Keshav kishor Kumar
■ सीधी सपाट...
■ सीधी सपाट...
*Author प्रणय प्रभात*
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मतदान"
Dr. Kishan tandon kranti
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
.
.
Ragini Kumari
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
AmanTv Editor In Chief
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
Subhash Singhai
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
अपनी चाह में सब जन ने
अपनी चाह में सब जन ने
Buddha Prakash
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
मै भी सुना सकता हूँ
मै भी सुना सकता हूँ
Anil chobisa
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
Loading...