Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

*”गुरू पूर्णिमा”*

“गुरू पूर्णिमा”
गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर गुरु शब्द के बारे में गुरु जी के कहे गए शब्द –
गुरु में दो अक्षर हैं गु + रु = गुरू ये दोनों शब्द घोतक है इस बात के गुणातीत + रूपातीत = अर्थात जो व्यक्ति गुणातीत + रूपातीत रहता है वो सबमें सुंदरता व सद्गुण देखता है । वो गुरु बनाने योग्य है क्योंकि वो अपनी अज्ञानता को दूर करता है और अपने ज्ञान रूपी प्रकाश से हमें भी प्रकाशित करता है।
ॐ सदगुरू देवाय नमः इस मंत्र को थोड़ी देर बैठकर बोलना चाहिए।
“ॐ सद्गुरु देवाय नमः”
गुरुदेव को मन से नमन करना चाहिए।
🙏💐🌹💐🌹💐🌹
जय गुरूदेव

1 Like · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
10. जिंदगी से इश्क कर
10. जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"" *स्वस्थ शरीर है पावन धाम* ""
सुनीलानंद महंत
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
VINOD CHAUHAN
"दुर्भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
शेखर सिंह
आंखों की नदी
आंखों की नदी
Madhu Shah
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
Lokesh Sharma
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
नाना भांति के मंच सजे हैं,
नाना भांति के मंच सजे हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...