Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

गुरू चरण सीखें सभी

बैठ कर हम गुरू चरण सीखे सभी
मान दे कर गुरू को सदा पूजे सभी

ज्ञान की नई विधा सीख लें रोज हम
आज शिक्षक दिवस हम मनाये सभी

हम रहेंगे गुरू के हमेशा ऋणी
हो बड़े आज हम ऋण चुकाये सभी

आपका नाम रौशन करे शिष्य ही
शीश हम गुरू को फिर नवाये सभी

प्रण करूँ काम ऐसा न कोई करूँ
आज हम फिर गुरू को हसाये सभी

69 Likes · 245 Views
You may also like:
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
लाचार बचपन
Shyam kumar kolare
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
पिताजी ने मुझसे कहा "तुम मुन्नी लाल धर्मशाला के ट्रस्टी...
Ravi Prakash
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी शोख़ अदाएं
VINOD KUMAR CHAUHAN
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
✍️✍️वजूद✍️✍️
'अशांत' शेखर
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
तेरी दहलीज़ तक
Kaur Surinder
बेशक
shabina. Naaz
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
The day I decided to hold your hand.
Manisha Manjari
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
नौजवानों के लिए पैग़ाम
Shekhar Chandra Mitra
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
की बात
AJAY PRASAD
योगा
Utsav Kumar Aarya
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Writing Challenge- माता-पिता (Parents)
Sahityapedia
Loading...