Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

गुरूर

उड़ते हुए परिन्दों के पर नहीं काटा करते
जंगल के शेर को लोहे की
सलाखों के पीछे नहीं डाला करते

इम्तिहान चरागों का भी लेती है आंधियां
वक़्त के पंजों से इंसान भागा नहीं करते

बड़े हौसले वालों को भी देखा है टूटते यहाँ
घमण्ड न कर, वक़्त का दरिया
जब बाँध को तोड़ता है
उसके सैलाब में सब खण्डहर हो जाता है

गुरुर का टूटना अच्छा है दोस्तों
वक़्त तुम्हें फिर से इंसान बना देता है |
शिशिर कुमार

Language: Hindi
407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
#व्यंग्य_काव्य
#व्यंग्य_काव्य
*Author प्रणय प्रभात*
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
Umender kumar
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
मतदान
मतदान
साहिल
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
एक दूसरे से बतियाएं
एक दूसरे से बतियाएं
surenderpal vaidya
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
*शायद काम आ जाए  (मुक्तक)*
*शायद काम आ जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
चेतावनी
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...