Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

गुरु घन्टाल

प्रत्यक्ष को पुराने की जरूरत क्या है
सच को भी छुपाने की जरूरत क्या है
***************************
घर में जब छिपे बेठे हों दुश्मन अपने
दुश्मनो को बुलाने की जरूरत क्या है
**************************
गुरू हो सच्चे सँवार देते हैं भविष्य
उनको कुछ बताने की जरूरत क्या है
**************************
जो आशा राम निर्मल बाबा जैसे हों गुरु
घन्टालों को गुरु बनाने की जरूरत क्या है
****************************
कपिल कुमार
27/07/2016

2 Comments · 390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
“ धार्मिक असहिष्णुता ”
“ धार्मिक असहिष्णुता ”
DrLakshman Jha Parimal
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3175.*पूर्णिका*
3175.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
राकेश चौरसिया
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
■ आज की बात।
■ आज की बात।
*Author प्रणय प्रभात*
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...