Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

गुरु घन्टाल

प्रत्यक्ष को पुराने की जरूरत क्या है
सच को भी छुपाने की जरूरत क्या है
***************************
घर में जब छिपे बेठे हों दुश्मन अपने
दुश्मनो को बुलाने की जरूरत क्या है
**************************
गुरू हो सच्चे सँवार देते हैं भविष्य
उनको कुछ बताने की जरूरत क्या है
**************************
जो आशा राम निर्मल बाबा जैसे हों गुरु
घन्टालों को गुरु बनाने की जरूरत क्या है
****************************
कपिल कुमार
27/07/2016

2 Comments · 298 Views
You may also like:
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
असली हीरो
Soni Gupta
अनपढ़ रखने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
हेमन्त दा पे दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
बेजुबान
Anamika Singh
कहाँ चले गए
Taran Singh Verma
दीयो के मन की संवेदना
Ram Krishan Rastogi
इश्क की तपिश
Seema 'Tu hai na'
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देने वाला कोई और है !
Rakesh Bahanwal
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
आईना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
*कुछ सुन्दर-सा कूड़ा होगा (बाल कविता/हास्य कविता)*
Ravi Prakash
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
bharat gehlot
✍️कल के सुरज को ✍️
'अशांत' शेखर
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
“ARBITRARY ACTING ON THE WORLD THEATRE “
DrLakshman Jha Parimal
🌈🌈प्रेम की राह पर-66🌈🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...