Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

“गुरुर मत करो”

“गुरुर मत करो”

क्या लेकर आये है
क्या लेकर जाएंगे ।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।।

बन्द मुट्ठी आये थे
खुले करके जाएंगे।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।।

रिश्ता निभाने चले थे
बेवफा बनके जाएंगे।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।।

अरे नफरत अगर मुझसे है
तो दूर हम चल जाएंगे।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।।

गुरुर किस बात की है गुरु
एक दिन मिट्टी में मील जाएंगे।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।।

अच्छे कर्म कर ले भाई
तेरे गुड़गान गवाएंगे।
बिन कोई सन्देश दिए
वापस हम लौट जाएंगे।

Language: Hindi
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
प्यार
प्यार
लक्ष्मी सिंह
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
Priya princess panwar
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
कलियुग की सीता
कलियुग की सीता
Sonam Puneet Dubey
आहट
आहट
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
3093.*पूर्णिका*
3093.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
"भावना" इतनी
*Author प्रणय प्रभात*
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...