Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

गुमनाम राही

मैं हूं एक गुमनाम सा राही
न जाने इस मजमा में कहा गुम हूं
पथ में कांटे ही कांटे बिछे हैं सारे

इन कांटों को चुग चुग बढ़ना होगा
दुष्करो दुस्साध्यो से लड़ना होगा
हर हाल में शिखर तक पहुंचना होगा…

पल – पल अवसर बीत रही है
पल – पल हयात कट रही है
हे मानव ! फिर भी तू निश्चित क्यों है
क्या भय तुम्हें न काशीवास से हैं

क्या तुम्हें मालूम नहीं
ईश्वर तुझे भेजा है क्यो ?
अपने उस ध्येय को याद कर
और निकल चल इस तम से तू…

हम मानव की जीवन क्षणिक है
कब है कब न किसे मालूम ?
जब उतर गया तू इस रण भूमि में
तो निज की जय करते ही जा…

मैं हूं एक गुमनाम सा राही
न जाने इस मजमा में कहा गुम हूं

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
होली के मजे अब कुछ खास नही
होली के मजे अब कुछ खास नही
Rituraj shivem verma
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"कवि तो वही"
Dr. Kishan tandon kranti
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
गुमनाम 'बाबा'
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
पूर्वार्थ
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
Loading...