Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

गुमनाम रहने दो मुझे।

हूँ मिजाजी सूफियाना,
एक्दम सच कहता तुझे।
नामवर बनना नहीं,
गुमनाम रहने दो मुझे।

दिल में ख़्वाहिश न रही अब,
मेरे भी चर्चे बने।
इश्तहारी के लिए
बेनाम के पर्चे बने।

बस फ़ज़ल है ये हुनर,
बिन दाम रहने दो मुझे।
नामवर बनना नहीं,
गुमनाम रहने दो मुझे।

बोलूं मेरी क्या तमन्ना,
कैसे सबको दूँ बता।
क्या बुराई नाम में,
एतराज कैसे दूँ जता।

कामयाबी में अकड़,
नाकाम रहने दो मुझे।
नामवर बनना नहीं,
गुमनाम रहने दो मुझे।

आरजू मेरी फ़क़त,
मुरशिद के दर खिदमत करूं।
गैरवाजिब काम के
अंजाम से हर दिन डरूं।

जी हुजूरी में सहर से,
शाम रहने दो मुझे।
नामवर बनना नहीं,
गुमनाम रहने दो मुझे।

Language: Hindi
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
Bodhisatva kastooriya
"बड़ी बातें करने के लिए
*Author प्रणय प्रभात*
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
*जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)*
*जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक समय के बाद
एक समय के बाद
हिमांशु Kulshrestha
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
"पानी-पूरी"
Dr. Kishan tandon kranti
आपकी यादें
आपकी यादें
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
*
*"ममता"* पार्ट-5
Radhakishan R. Mundhra
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
बुद्ध धाम
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
R J Meditation Centre, Darbhanga
R J Meditation Centre, Darbhanga
Ravikesh Jha
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
Ashwini sharma
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Sukoon
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
Loading...