Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

गुनाह लगता है किसी और को देखना

गुनाह लगता है किसी और को देखना
जुदा हो कर भी नज़रे वफ़ादार रहती हैं
मुहब्बत अगर सच्ची है तो
फासलों में भी बरकरार रहती है
©Dhara

2 Likes · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Trishika S Dhara
View all
You may also like:
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
"प्रेमको साथी" (Premko Sathi) "Companion of Love"
Sidhartha Mishra
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
नयी नवेली
नयी नवेली
Ritu Asooja
*मित्र*
*मित्र*
Dr. Priya Gupta
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"ख्वाहिशें"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
आज
आज
*Author प्रणय प्रभात*
सादगी मशहूर है हमारी,
सादगी मशहूर है हमारी,
Vishal babu (vishu)
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
..............
..............
शेखर सिंह
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
manisha
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
Loading...