Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2022 · 1 min read

गुजारिश

ख़्वाहिश है कि तहरीर को सम्मान देंगे आप ,
मतदान करके इक बेहतर योगदान देंगे आप ,
कोशिश है बिखरे ‘हिन्द ‘ को समेटने की फिर
करके सही चयन सुरक्षित हिंदुस्तान देंगे आप ,,
??????????????????????????

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
प्रेमिका को उपालंभ
प्रेमिका को उपालंभ
Praveen Bhardwaj
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर  स्वत कम ह
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम ह
पूर्वार्थ
दोस्तों
दोस्तों
Sunil Maheshwari
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
Rituraj shivem verma
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"सनद"
Dr. Kishan tandon kranti
"Do You Know"
शेखर सिंह
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
सत्य कुमार प्रेमी
*छंद--भुजंग प्रयात
*छंद--भुजंग प्रयात
Poonam gupta
समय
समय
Swami Ganganiya
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*प्रणय प्रभात*
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
Loading...