Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

गुज़िश्ता साल -नज़्म

शीर्षक – गुज़िश्ता साल [ नज़्म ]

निकल रहा है एक और साल ज़िन्दगी से ।
पूछते रह गए…… हम सवाल ज़िन्दगी से ।।

कितने ख़्वाब मुक़म्मल हुए, सोचते हैं ।
ग़लतियों पर ख़ुद को हम कोसते हैं ।।
क़ामयाबी के मोती…. पाए हैं हमनें ।
गीत मेहनत के… गुनगुनाए हैं हमनें ।।

फ़िर भी रह गए कुछ मलाल ज़िन्दगी से ।
निकल रहा है एक और साल ज़िन्दगी से ।।

नये साल से…. उम्मीदें ढेर सारी है ।
नया करने की अभी कोशिश जारी है ।।
हासिल न कर पाए जो बीते साल में ।
पाने लेंगे वो लक्ष्य, अब पूरी तैयारी है ।।

रहना तुम बनकर हम-ख़्याल ज़िन्दगी से ।
निकल रहा है एक और साल ज़िन्दगी से ।।

©डॉ. वासिफ़ काज़ी , इंदौर
©काज़ी की क़लम

28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इक़बाल कॉलोनी
इंदौर , मप्र

Language: Hindi
1 Like · 474 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
"कभी मेरा ज़िक्र छीड़े"
Lohit Tamta
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
"कैसे व्याख्या करूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*मिला है जिंदगी में जो, प्रभो आभार है तेरा (मुक्तक)*
*मिला है जिंदगी में जो, प्रभो आभार है तेरा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
#कविता
#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यही जीवन है ।
यही जीवन है ।
Rohit yadav
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पल
पल
Sangeeta Beniwal
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
एक अध्याय नया
एक अध्याय नया
Priya princess panwar
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
Loading...