Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2017 · 1 min read

गुजरे वक्त की याद………….रुलाती है |गीत| “मनोज कुमार”

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

जबसे छीनी है प्यार की दौलत |
बनके हम तो फ़क़ीर बैठे है ||
झूठा ही सही ख़्वाब में आ जाना |
दूर रहकर ये रूह रोती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

अब तो मंजिल है ना ठिकाना है |
दिल की चाहत तुम्हीं को पाना है ||
तुमको भूला कभी ना गलती है |
तुमसे ही साँस मेरी चलती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

मैं तो दीपक तू मेरी बाती है |
हर घड़ी साथ दे वो साथी है ||
वफ़ा भी तुमसे जानी जाती है |
मेरी पहचान तुमसे आती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

“मनोज कुमार”

Language: Hindi
Tag: गीत
574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
"डिब्बा बन्द"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
Atul "Krishn"
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Er. Sanjay Shrivastava
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
Sandeep Pande
■ बेहद शर्मनाक...!!
■ बेहद शर्मनाक...!!
*Author प्रणय प्रभात*
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/63.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/63.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
गोंडवाना गोटूल
गोंडवाना गोटूल
GOVIND UIKEY
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...