Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

गुंजाइश

तू साथ है तो ज़िन्दगी भी ख्वाइश है
वरना ये महफिल तो एक नुमाइश है

कैसे इशारों इशारों में होतीं हैं गुफ्तगू
हमारी मोहब्ब्त की ये बस पैमाइश है

एक आलिंगन एक चुम्बन एक गज़ल
वस्ले शब् में सिर्फ इतनी फरमाइश है

नशीली ये नज़र है या नशा होंठों का
तेरे हुस्न में अजब एक आशनाइश है

इस कदर खफा है यह ज़िन्दगी हमसे
यह भी हमारी मोहब्ब्ते-आज़माइश है

सोचा नहीं के इतना बदलेगा ‘मिलन’
तुझे मनाने में ही इश्क-ऐ-गुंजाइश है !!

282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
"फितरत"
Ekta chitrangini
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
Munish Bhatia
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
शेखर सिंह
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
विपक्ष ने
विपक्ष ने
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
शांत मन को
शांत मन को
Dr fauzia Naseem shad
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
Loading...