Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2018 · 1 min read

गीत

प्रेम का एहसास
———————
प्रेम एक एहसास है
उमंगो के उत्सव का,
अंबर को छूने का
अवनि पर मिटने का,
बर्फ सा पिघलने का
खुशबू सा महकने का,
वायु में बसने का
धूल में उड़ने का ,
सूरज के तपने का
चाँद सा चमकने का,
गमो को पीने का
खुशियों के देने का ,
पतझड़ में बहार का
बर्षा में फुहार का ,
गजरे में फूल का
डालियो में सूल का,
कहीं सुरमई शाम का
मदकता में आम का ,
दूर से करीब का
निकट में नीर का ,
समीर में सुगंध का
बिखरे मकरन्द का,
बंधन बधे रीत का
समर्पण में प्रीत का ,
सरगम संगीत का
मिले तो गीत का ,
बढे़ तो दरिया का
समाए तो सागर का ।
______-___________-_______-_____
शेख जाफर खान

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 4 Comments · 1158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
3081.*पूर्णिका*
3081.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
पिता का यूं चले जाना,
पिता का यूं चले जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
दिल चाहे कितने भी,
दिल चाहे कितने भी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
दूर चकोरी तक रही अकास...
दूर चकोरी तक रही अकास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
"नए पुराने नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
महाराष्ट्र का नया नाटक
महाराष्ट्र का नया नाटक
*प्रणय प्रभात*
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
Loading...