Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

गीत

गीत

अनवरत आंसुओं की झड़ी लग गई,
गंगा जमुना हमारे नयन हो गए।
अब ये बरखा ये सावन के झूले सजन,
सब खुली आंख के से सपन हो गए।

आस की मेहंदियां अनरची रह गई,
गीत बिन ब्याही दुल्हन से लगने लगे।
और उम्मीदों की पायल के घुंघरू सभी,
टूटते टूटते अब बिखरने लगे।

छन्द के बन्द मन में ही घुटते रहे,
भाव उठ भी न पाए दफ़न हो गए।

बारिशों में भी तन-मन झुलसने लगा,
हमको परदेस खुद घर की चौखट हुई।
चौंक कर गहरी नींदों से जग-जग गए,
जब भी दहलीज़ पर कोई आहट हुई।

चाह के पंख थक-थक के बोझिल हुए,
मन के अरमां हमारे गगन हो गए।

बदलियां रात दिन ही बरसती रहीं,
चातकी प्यास पर अनबुझी रह गई।
कोई मांझी न उस पार पहुंचा सका,
किश्तियां घाट पर ही बंधी रह गईं।

सहमे- सहमे हुए हम सुलगते रहे,
गीली लकड़ी के जैसे हवन हो गए।
-आर० सी० शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
■ कोटिशः नमन्
■ कोटिशः नमन्
*Author प्रणय प्रभात*
श्रद्धा
श्रद्धा
मनोज कर्ण
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
शोषण
शोषण
साहिल
बगावत का बिगुल
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
* बच्चा-बच्चा भारत का अब सच्चा आयुध-धारी हो 【मुक्तक】*
* बच्चा-बच्चा भारत का अब सच्चा आयुध-धारी हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
" लोग "
Chunnu Lal Gupta
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
मेरा गांव
मेरा गांव
Anil "Aadarsh"
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
उम्र ए हासिल
उम्र ए हासिल
Dr fauzia Naseem shad
बेचारे नेता
बेचारे नेता
दुष्यन्त 'बाबा'
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
Loading...