Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

गीत

गीत
1222/1222/1222/1222
कि मैंने दिल की खामोशी को कागज पर उतारा है।
कभी जो कह नहीं पाया लिखा वो हाल सारा है।

जो बचपन खेल में बीता वो सोचो कैसी मस्ती थी।
नहीं थे रंक भी फिर भी वो राजाओं सी हस्ती थी।
जो मुड़कर देखता पीछे तो दिखता वो नज़ारा है।(1)
……. कभी जो कह नहीं पाया।

बढ़े आगे सफर में जब मिले कितने सखा साथी।
हटाने को अंधेरे सब जले बनकर दिया बाती।
हुए कुछ गुम ॲंधेरों में, गगन में जा के कुछ चमके,
मेरी मेहनत से चमका जो वो किस्मत का सितारा है।(2)
……….कभी जो कह नहीं पाया।

चले जब हमसफर बनकर तुम्हारे साथ जीवन में।
खिलाएं फूल तुमने अनगिनत मानस के गुलशन में।
बसंती रुत में कोयल अब सुनती गीत प्यारा है।(3)
………कभी जो कह नहीं पाया।

सुनो डूबेगा सूरज रात होगी तम से मत डरना।
क्या खोया है क्या पाया है इसी का आंकलन करना।
रहेगा साथ वो ही जो कमाया प्यार से तुमने,
नहीं तो डूबती कश्ती कहां मिलता किनारा है।(4)
………कभी जो कह नहीं पाया।

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
Tag: गीत
100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
Sukoon
राखी (कुण्डलिया)
राखी (कुण्डलिया)
नाथ सोनांचली
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अलबेला अब्र
अलबेला अब्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
Forever
Forever
Vedha Singh
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
Dr MusafiR BaithA
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
मुझे विवाद में
मुझे विवाद में
*प्रणय प्रभात*
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
"जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
" आखिर कब तक ...आखिर कब तक मोदी जी "
DrLakshman Jha Parimal
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
Loading...