Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 2 min read

गीत

देखा है नन्हीं बिटियों को, कांधे पर कैशोर्य उठाते।
बोलो सुघर सांवले दूल्हे, किसे ब्याहने आए हो तुम?

फीतें वाली बांध चोटियां, इसी जगह पढ़ने आती थीं।
बागवान की पाली कलियां, किरणों में बढ़ने आती थीं।
यहीं मास्टर जी उन सबको नित दिन इमला लिखवाते थे।
इसी प्रांगण में हम उनको खो खो, गुट्टे खिलवाते थे।

बड़े चाव से देखा सब को अमियां, इमली, चूरन खाते।
इन में से ही होगी कोई जिसे, ब्याहने आए हो तुम?

जोड़ घटाने में कच्चीं थीं, पर कविताई सीख गईं थीं।
कामायनी, पुष्प अभिलाषा, औ चौपाई सीख गई थीं।
कोई कहती मुझे संस्कृत या अंग्रेजी समझ न आती।
कोई रख गृह कार्य अधूरा सखियों पर ही लाग लगाती।

कभी छड़ी से दीदी जी की इक दूजे को दिखीं बचाते।
इन में से ही होगी कोई जिसे, ब्याहने आए हो तुम?

कुछ तो रोटी भात बनाकर रखतीं तब पढ़ने आतीं थीं।
कुछ खेतों में धान लगातीं, इसीलिए कम आ पातीं थीं।
छटी, सातवीं ही जमात में बड़े – बड़े सपने जीतीं थीं।
नहीं पढ़ाएंगे अब आगे पिता, कई कुढ़कर कहतीं थीं।

आंखों की गुल्लक में देखा, बचपन की उम्मीद बचाते।
इन में से ही होगी कोई जिसे, ब्याहने आए हो तुम?

फ्रॉक पहन इठलाता बचपन, चुन्नी में सकुचाते देखा।
कक्षा की बैठक को लड़की – लड़के में बंट जाते देखा।
असर उम्र का सम्मुख मेरे गति नज़रों की बदल रहा था।
आँख किसी से मिल जाने पर ह्रदय किसी का मचल रहा था।

अंतिम दिवस उन्हीं आंखों को देखा आंसू से भर जाते।
इन में से ही होगी कोई जिसे, ब्याहने आए हो तुम?

यहीं रुकीं बारातें उनकी यहीं पढ़ा खेला करतीं थीं।
मुझे याद है बड़े ध्यान से वो अपनी पुस्तक रखतीं थीं।
जैसे वो रखतीं थीं पुस्तक, तुम भी उनको रखना दूल्हे।
वो कविताओं की किताब हैं, उनको मन से पढ़ना दूल्हे।

देखा तनिक बात पर रोते और तनिक पर ही मुस्काते।
उन में से ही होगी कोई जिसे, ब्याहने आए हो तुम?
© शिवा अवस्थी

2 Likes · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
अब अपना पराया तेरा मेरा नहीं देखता
अब अपना पराया तेरा मेरा नहीं देखता
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शबाब देखिये महफ़िल में भी अफताब लगते ।
शबाब देखिये महफ़िल में भी अफताब लगते ।
Phool gufran
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
भविष्य के सपने (लघुकथा)
भविष्य के सपने (लघुकथा)
Indu Singh
■ welldone
■ welldone "Sheopur"
*प्रणय प्रभात*
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
कहानी हर दिल की
कहानी हर दिल की
Surinder blackpen
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मित्रता का बीज
मित्रता का बीज
लक्ष्मी सिंह
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
SPK Sachin Lodhi
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गुप्तरत्न
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहा
हिन्दी दोहा "प्रहार"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...