Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2023 · 1 min read

गीत

मैंने कहा हमेशा तुमसे,
उड़ना दूर क्षितिज तक जाना।
बोलो! कभी कहा है तुमसे डोरी मेरे हाथ रहेगी ?

मैंने चाहा तुम तितली के साथ उड़ो खुशबू ले आओ।
मैंने चाहा सीखो खिलना, फूलों के जैसे मुस्काओ।

मैंने कहा हमेशा तुमसे,
उड़ना, खिलना मुस्काना पर,
बोलो! कभी कहा है तुमसे खुशबू मेरे साथ रहेगी?

मैंने चाहा ऐसे चमको सूरज जलकर लगे सुलगने।
मैंने चाहा तुम पर रीझी देव नारियां लगें उतरने।

मैंने कहा हमेशा तुमसे
तुम देवों सा आसान पाओ।
बोलो कभी कहा है तुमसे, प्रभुता मेरे माथ रहेगी ?
© शिवा अवस्थी

1 Like · 521 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
Ravi Prakash
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3058.*पूर्णिका*
3058.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
Rajesh vyas
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
दिल का मौसम सादा है
दिल का मौसम सादा है
Shweta Soni
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
"एक जंगल"
Dr. Kishan tandon kranti
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुंडलिया
कुंडलिया
दुष्यन्त 'बाबा'
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...