Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

गीत

कह रहे हैं आज हम भी तानकर सीना।
प्रीत ने चलना सिखाया प्रीत ने जीना।।
*
थे भटकते फिर रहे पथ में अकेले।
आप आये तो जुड़े हम से बहुत मेले।।
था नहीं परिचय स्वयं से तो भला क्यों।
कौन अनजाना बुलाता आन सुख लेले।।
*
पीर ही थाती हमारी बन गयी थी पर।
आप की मुस्कान ने हर दर्द है छीना।।
*
हर चमन के फूल मसले शूल से खेले।
हम रहे अब तक महज संसार में ढेले।।
नेह के हर बोध से अनजान जीवनभर।
वासना की कोख में नित क्या नहीं झेले।।
*
थे समझ पाये नहीं सच बिन तुम्हारे ये।
वासना औ’ प्रीत में अन्तर बहुत झीना।।
*
हो गये थे लोक में पाषाण जैसे हम।
भूल बैठी थी हमारी आँख होना नम।।
थे शिखर पर किन्तु यश से हीन जैसे।
हो गया ऊँचा हमारा आप से परचम।।
*
आपकी मनुहार से ही जिन्दगी में हम।
सीख पाये मुश्किलों से प्रेम रस पीना।।
*

Language: Hindi
2 Likes · 267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
"दुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
सावन सूखा
सावन सूखा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
Dr. Man Mohan Krishna
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
Shweta Soni
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
Manisha Manjari
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वो ज़िद्दी था बहुत,
वो ज़िद्दी था बहुत,
पूर्वार्थ
दोहे - नारी
दोहे - नारी
sushil sarna
Loading...