Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

गीत

सृष्टि कण कण में बसा है गीत का संसार
शब्द की स्वर लहरियों में गीत का श्रंगार
ग्यान में विज्ञान में है,साधकों के ध्यान में है
श्वास में निःश्वास में है गीत का अधिकार
खुली अलकों बंद पलकों में निहित है सादगी में
सुरमइ चम्पइ रंग में गीत के उद्गार
जन्म में है मरण में है त्याग में है वरण में है
हर अधर पर हर नयन में गीत का ही प्यार
पाश में है मुक्ति में है विश्व में है ईश में है
योग ऐर वियोग में है गीत कर्म प्रसार
सुरेशसोनी”शलभ”

Language: Hindi
Tag: कविता
444 Views
You may also like:
सृजन की तैयारी
Saraswati Bajpai
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-9
Taj Mohammad
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
जनसेवा हित कल्पतरु, बना आपका ट्रस्ट
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
मीडिया की जवाबदेही
Shekhar Chandra Mitra
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
सरस्वती वंदना
Shailendra Aseem
Little baby !
Buddha Prakash
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /"लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
*मैं तो बुआ बड़ी (गीत)*
Ravi Prakash
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...