Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2017 · 1 min read

गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं

गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं, नहि मुक्तक नहीं छंद ।
यूँ ही घुमा फिराय के, रखे शब्द हैं चंद ।।
रखे शब्द हैं चंद, नहीं कुछ मतलब जिनका ।
बिलकुल हैं बेकार, व्यर्थ है पढ़ना इनका ।।
कहो साथियो आखिर इसमें, क्या है मेरी भूल ।
अगर आप भी पढ़कर इनको,बन जाएं अप्रैल फूल ।।

1 Like · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ठगी
ठगी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सत्य को अपना बना लो,
सत्य को अपना बना लो,
Buddha Prakash
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
एक कहानी- पुरानी यादें
एक कहानी- पुरानी यादें
Neeraj Agarwal
2649.पूर्णिका
2649.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
Suryakant Dwivedi
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*हास्य-व्यंग्य*
*हास्य-व्यंग्य*
Ravi Prakash
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
Loading...