Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

गीत – याद तुम्हारी

सोनजुही सी याद तुम्हारी
आती है जब जब
मन की बगिया एहसासों की
महक उठे तब तब

मुस्कानों की याद से काटूँ
दुख की सारी रात
सुबह होठ की लाली लेकर
जैसे करती बात
छ्म – छम करते पायल जैसी
सोनी चिड़िया सब

चंचल नैन की याद से काटूँ
दिन के सब जंजाल
थकन शाम को मिट
जाती है सोच रेशमी बाल
दूर हुआ हूँ फिर भी छूटा
मैं अलकों से कब

प्यारी बैन की याद से काटूँ
सूनेपन की राह
प्रेम राग में गाती जैसे
तेरी हर परवाह
मुझे बुलाती दूर देश से
आओ मेरे रब ..

Language: Hindi
3 Likes · 387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
ऐसे काम काय करत हो
ऐसे काम काय करत हो
मानक लाल मनु
ग़ुमनाम जिंदगी
ग़ुमनाम जिंदगी
Awadhesh Kumar Singh
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
आपकी इस मासूमियत पर
आपकी इस मासूमियत पर
gurudeenverma198
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
DrLakshman Jha Parimal
न काज़ल की थी.......
न काज़ल की थी.......
Keshav kishor Kumar
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
रुद्रा
रुद्रा
Utkarsh Dubey “Kokil”
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
Loading...