Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2022 · 1 min read

गीत – प्रेम असिंचित जीवन के

प्रेम असिंचित जीवन के इस बंजर मन में
आशाओं के पुष्प खिलाना , कितना दुष्कर

बंजर मन में नागफनी के अगणित क्षुप हैं
जो उग आये हैं चिंतन के विस्तारों तक
इनका ओर न छोर दिखाई देता कोई
ये फैले हैं अंधियारों से उजियारों तक

हर दिन बढ़ते नागफनी के इस जंगल को
अपने मन से काट मिटाना , कितना दुष्कर

स्वर्ण -रजत का पोषण देकर हमने सींचा
अपने जीवन को सुविधा की बौछारों से
जीवन व्यर्थ गँवाया अपना , सोच न पाए
खेल रहे हैं हम भी कैसे अंगारों से

स्वर्ण -रजत के दम पर अपने जीवन के
इस बंजर मन में प्रेम जगाना , कितना दुष्कर

शब्द पढ़े से ज्ञान हुआ है किसको जग में
प्रेम पढ़े से कौन रहा है जड़ अज्ञानी
शब्द पढ़े और प्रेम न जाने , तो फिर कैसा
त्यागी , तपसी, योगी , राजा , औघड़ , ध्यानी

शब्द धनी ,पर, प्रेम अशिक्षित अपने मन को
अक्षर अक्षर प्रेम पढ़ाना , कितना दुष्कर

… शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖
💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖🌹💖
Neelofar Khan
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
इतनी खुबसुरत हो तुम
इतनी खुबसुरत हो तुम
Diwakar Mahto
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
क्या कहूँ ?
क्या कहूँ ?
Niharika Verma
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#जय_जगन्नाथ
#जय_जगन्नाथ
*प्रणय प्रभात*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
पास तो आना- तो बहाना था
पास तो आना- तो बहाना था"
भरत कुमार सोलंकी
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
"मुस्कुराते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारे दिल में इक आशियाना खरीदा है,
तुम्हारे दिल में इक आशियाना खरीदा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
शेखर सिंह
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
Loading...