Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2018 · 1 min read

गीत ….. जुबां पै मिठास है

******** जुबां पै मिठास है *********
मन में है भेद लाखों , जुबां पै मिठास है
अब तुच्छ राजनिति , कवि के भी पास है
मन में है भेद लाखों ……….
जाति से मुक्त ना वो , जलन से रहा है दूर
देखो तो उसकी शख्सीयत, अब कितनी खास है
अब तुच्छ राजनिति …………..
आगे निकल ना जाये , उससे छोटे दौडकर
गिरना कबूल है उसे , पर ये ना रास है
अब तुच्छ राजनिति …………….
कहते है वो खुद को, सिपाही मैं कलम का
सच तो है ये , वो तालिबानियों के पास है
अब तुच्छ राजनिति …………..
मन में चिढन – दिल में घुटन , दिमाग परेशां
वो अपनी सल्तनत का , एक गुलाम ताश है
अब तुच्छ राजनिति …………
अब ढूंढना मुश्किल , निराला – प्रेम – कबीरा
देख ऐसे जोकरों को , माँ वीणा उदास है
अब तुच्छ राजनिति ………
सच कह दिया है “सागर” , अब अन्जाम भी भुगत
शायद तेरे अंगुठें का , होना अब नाश है
अब तुच्छ राजनिति , कवि के भी पास है
*********
बैखोफ शायर/गीतकार/लेखक
डाँ. नरेश कुमार “सागर”
9897907490

Language: Hindi
Tag: गीत
394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
शिव प्रताप लोधी
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
3267.*पूर्णिका*
3267.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आईये जीवन में रंग भरें ll
पूर्वार्थ
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
💪         नाम है भगत सिंह
💪 नाम है भगत सिंह
Sunny kumar kabira
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
■ अनफिट हो के भी आउट नहीं मिस्टर पनौती लाल।
■ अनफिट हो के भी आउट नहीं मिस्टर पनौती लाल।
*प्रणय प्रभात*
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
अश'आर
अश'आर
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
रिश्ता गहरा आज का,
रिश्ता गहरा आज का,
sushil sarna
जिस देश मे पवन देवता है
जिस देश मे पवन देवता है
शेखर सिंह
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
Loading...