Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

गीत- उसे सच में नहीं पहचान चाहत और नफ़रत की…

उसे सच में नहीं पहचान चाहत और नफ़रत की।
नहीं मुस्क़ान समझे जो न आँसू जानता है जो।।

सितारे-चाँद देखे पर रहे गुमसुम अँधेरा बन।
उसे शमशान लगता है हमेशा ही खिला गुलशन।
हृदय कमज़ोर उसका है बहाने तानता है जो।
नहीं मुस्क़ान समझे जो न आँसू जानता है जो।।

नहीं इंसानियत समझे चले छल के इशारों में।
हवा गुमसुम रहे फूले हुये नाजुक गुब्बारों में।
वही ऊँचा रहेगा दिल कि ऊँचा ठानता है जो।
नहीं मुस्क़ान समझे जो न आँसू जानता है जो।।

शराफ़त की उड़ाएगा हँसी जो भी गिरेगा वो।
हुनर का मान करता जो सदा आगे बढ़ेगा वो।
विजय उसकी हमेशा हो हिदायत मानता है जो।
नहीं मुस्क़ान समझे जो न आँसू जानता है जो।।

आर.एस. ‘प्रीतम’

Language: Hindi
2 Likes · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
साँझ ढली पंछी चले,
साँझ ढली पंछी चले,
sushil sarna
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
*पंचचामर छंद*
*पंचचामर छंद*
नवल किशोर सिंह
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
7. तेरी याद
7. तेरी याद
Rajeev Dutta
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
यह ज़मीं है सबका बसेरा
यह ज़मीं है सबका बसेरा
gurudeenverma198
कविता
कविता
Shiva Awasthi
आशियाना
आशियाना
Dipak Kumar "Girja"
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Lucky Number Seven!
Lucky Number Seven!
R. H. SRIDEVI
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
एक पेड़ की हत्या (Murder of a Tree) कहानी
एक पेड़ की हत्या (Murder of a Tree) कहानी
Indu Singh
Loading...