Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 22, 2016 · 1 min read

गीतिका

आधार छंद वाचिक स्त्रग्विणी – मापनी – 212 212 212 212

समान्त – आने, पदांत – लगी

****
खून उबला बहुत रूह जलने लगा
यह कलम हाथ की छटपटाने लगी

खूब महका चमन यार कश्मीर था
आज केसर जली दिल जलाने लगी

हर तरफ हो अमन प्रीत के गुल खिले
थी यही मन लगन अब सताने लगी

फूल भेजे सदा पग बने शूल सब
बीत सदियाँ गई मन दुखाने लगी

वो चढ़ा यान है नफरतों के सुनो
प्रीत की यह जमीं कब लुभाने लगी

हो चुकी है बहुत बात अब प्यार की
देव देखो खडग चममचाने लगी

देवकीनंदन
महेंद्रगढ़(हरि)

166 Views
You may also like:
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
धन्य है पिता
Anil Kumar
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
समय ।
Kanchan sarda Malu
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरूखी
Anamika Singh
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
Little sister
Buddha Prakash
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
Loading...