Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

गीतिका

आधार छंद वाचिक स्त्रग्विणी – मापनी – 212 212 212 212

समान्त – आने, पदांत – लगी

****
खून उबला बहुत रूह जलने लगा
यह कलम हाथ की छटपटाने लगी

खूब महका चमन यार कश्मीर था
आज केसर जली दिल जलाने लगी

हर तरफ हो अमन प्रीत के गुल खिले
थी यही मन लगन अब सताने लगी

फूल भेजे सदा पग बने शूल सब
बीत सदियाँ गई मन दुखाने लगी

वो चढ़ा यान है नफरतों के सुनो
प्रीत की यह जमीं कब लुभाने लगी

हो चुकी है बहुत बात अब प्यार की
देव देखो खडग चममचाने लगी

देवकीनंदन
महेंद्रगढ़(हरि)

Language: Hindi
306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नवगीत
नवगीत
Sushila Joshi
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
VINOD CHAUHAN
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
दिल का तुमको
दिल का तुमको
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
कृषक
कृषक
साहिल
बाहों में आसमान
बाहों में आसमान
Surinder blackpen
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
'प्रहरी' बढ़ता  दंभ  है, जितना  बढ़ता  नोट
'प्रहरी' बढ़ता दंभ है, जितना बढ़ता नोट
Anil Mishra Prahari
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पुरानी रंजिशों की भूल, दोहराने से बचना है (हिंदी गजल/ गीतिक
*पुरानी रंजिशों की भूल, दोहराने से बचना है (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
नई सुबह नव वर्ष की
नई सुबह नव वर्ष की
जगदीश लववंशी
Loading...