Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 13, 2016 · 1 min read

“गीतिका”

गीतिका –

* * * * *

साथ तेरा मिला हम सँभलने लगे |
ये समय को न भाया बदलने लगे |

क्या अजब रीत है इस जहाँ की सुनो
पास पैसा नहीं सुर बदलने लगे |

जब नया पद मिला और कद बढ़ गया
सब सगा है बताकर उछलने लगे |

फूल फिर इक नया जब खिला डाल पर
देख मधुकर ख़ुशी से मचलने लगे |

इश्क कैसी है’ शै ये बताना जरा
पाँव खुद ही हमारे फिसलने लगे |

जब कड़ी धूप में पाँव जलने लगे |
साथ छाया बने तुम तो चलने लगे |

“छाया”

1 Comment · 210 Views
You may also like:
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सुन री पवन।
Taj Mohammad
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...