गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना

गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना
◆●◆●◆●◆●◆
जिसने खुद को है पहचाना
उसके आगे झुका जमाना

दुनिया में तो दुख हैं लाखों
फिर भी इनसे क्या घबराना

लोग भला क्यों दंभी होते
जब साँसों का नहीं ठिकाना

यार कहो अच्छा है लेकिन
देखो बंदा है अनजाना

मयखाने में ज्वाला पीकर
भूल गये हैं घर को जाना

उनको भी ”आकाश” खिलाओ
पैदा करते हैं जो दाना

– आकाश महेशपुरी

368 Views
You may also like:
Angad tiwari
Angad Tiwari
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का सपना
श्री रमण
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
Born again with love...
Abhineet Mittal
शिव शम्भु
Anamika Singh
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
जल की अहमियत
Utsav Kumar Vats
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
तपिश
SEEMA SHARMA
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ
Dr Archana Gupta
Loading...