Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2016 · 1 min read

गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना

गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना
◆●◆●◆●◆●◆
जिसने खुद को है पहचाना
उसके आगे झुका जमाना

दुनिया में तो दुख हैं लाखों
फिर भी इनसे क्या घबराना

लोग भला क्यों दंभी होते
जब साँसों का नहीं ठिकाना

यार कहो अच्छा है लेकिन
देखो बंदा है अनजाना

मयखाने में ज्वाला पीकर
भूल गये हैं घर को जाना

उनको भी ”आकाश” खिलाओ
पैदा करते हैं जो दाना

– आकाश महेशपुरी

436 Views
You may also like:
मै वह हूँ।
Anamika Singh
नशा कऽ क नहि गबावं अपन जान यौ
VY Entertainment
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
जिन्दगी को ख़राब कर रहे हैं।
Taj Mohammad
"तब घर की याद आती है"
Rakesh Bahanwal
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुजरे लम्हे सुनो बहुत सुहाने थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
क़फ़स
मनोज कर्ण
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
बेटी से ही संसार
Prakash juyal 'मुकेश'
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक
Ravi Prakash
तुम अगर हो पास मेरे
gurudeenverma198
हकीकत
पीयूष धामी
247. "पहली पहली आहट"
MSW Sunil SainiCENA
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
बुंदेली दोहा:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शिक्षा के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ का अनमोल प्रसाद
राकेश कुमार राठौर
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
हिरण
Buddha Prakash
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जर्मनी की बर्बादी
Shekhar Chandra Mitra
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...