Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2020 · 1 min read

गीता के स्वर (1) कशमकश

मधुसूदन !
जनार्दन !!
कुरुक्षेत्र के मैदान में
अपने सगों, कुटुम्बों को
काल के गाल में भेजकर सुख कैसा ?
राजसत्ता कैसी ?
गाण्डीवधारी का विचलन,
धनुष का परित्याग,
स्वाभाविक था.
यह कैसा धर्मक्षेत्र ?
जो नाश कर दे कुल का,
धर्म पर अधर्म की विजय पताका फहराए,
राज सत्ता का लोभ,
अपने ही वंश के विनाश
का मार्ग प्रशस्त करे.
पांचजन्य, देवदत्त
जैसे दिव्य शंखों की नाद-
अद्वितीय धनुर्धर के
कानों को वेधने लगा
श्वेत अश्वों से युक्त रथ
मुँह चिढ़ाने लगा
और अन्ततः
धनुर्धर धम्म से,
शोक में निमग्न,
बैठ गया
रथ के नेपथ्य में
स्नेह, करुणा और धर्माधर्म के भय से
व्याकुल, अधीर
है कोई उत्तर ?
बताइए, अरिसूदन.

Language: Hindi
1 Like · 421 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
2674.*पूर्णिका*
2674.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
Neelam Sharma
लाखों ख्याल आये
लाखों ख्याल आये
Surinder blackpen
#सुप्रभात
#सुप्रभात
*Author प्रणय प्रभात*
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
गृहस्थ के राम
गृहस्थ के राम
Sanjay ' शून्य'
*मेरी रचना*
*मेरी रचना*
Santosh kumar Miri
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
Kumud Srivastava
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
Taj Mohammad
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
Loading...