Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2023 · 2 min read

गिल्ट

साल 2018, जब भैया ने नया फोन दिलाया, मैं बेहद खुश थी । पहली बार एंड्रॉयड फोन जो मिल रहा था । Moto g 5 plus , कैमरा बहुत ही बेहतरीन ऊपर से 64GB मेमोरी । चूंकि प्रकृति को कैमरे में कैद करना मुझे बहुत पसंद है तो कैमरे की क्वालिटी अच्छी होने के कारण इस ‘मोटो’ से बहुत जल्दी ही मेरा लगाव हो गया । लगभग रोज BHU कैंपस के दो चार प्राकृतिक दृश्य उसमें कैद होने लगे और साल 2021 से लखनऊ विश्वविद्यालय के भी । कुछ महीने पहले मेरे फोन का लाॅक बटन खराब हो गया । हालांकि फिंगर प्रिंट से अनलाॅक हो जाता था इसलिए बटन ठीक कराने पर ध्यान नहीं गया । कोशिश रहती थी कि फोन डिस्चार्ज होकर स्वीच ऑफ न होने पाए , नहीं तो बटन ठीक कराना मजबूरी हो जाएगी। परसों रात में देखा फोन की बैटरी केवल 15% थी। थकान के कारण हिम्मत नहीं हुई कि उठ के चार्जिंग पर लगाएं। । सोचा पावर सेवर मोड पर डाल देते हैं , सुबह तक तो चल ही जाएगा । हुआ भी यही , सुबह उठ के देखा तो बैटरी 12% । कुछ देर व्हाटसअप यूज करने के बाद बैटरी बची 7% । उसके बाद जैसे ही फोन चार्जिंग पर लगाया , फोन स्वीच ऑफ हो गया और त्रासदी यह थी कि फोन में चार्जिंग भी नहीं दिखा रहा था । सोचा, हो सकता है बैटरी बिल्कुल ही डिस्चार्ज हो गई हो , इसलिए ऐसा हो रहा । लेकिन अफसोस, घण्टों चार्ज करने के बाद भी फोन में चार्जिंग नहीं दिखा और अंततः हमें यह स्वीकार करना पड़ा कि अपनी लापरवाही के कारण हमने अपना ‘मोटो’ खो दिया।
पूरे दिन अपनी गलती पर पछतावा होता रहा और दिमाग में यही बात घूमती रही कि काश समय को पीछे ले जाके हम अपनी गलती सुधार सकते ।
कभी हमारे बहुत करीबी रिश्ते भी ऐसे ही हमारी अपनी गलती के कारण खत्म हो जाते हैं लेकिन अफसोस , हमें तब गिल्ट फील नहीं होता । एक निर्जीव वस्तु के लिए हम अपनी गलती पर पछता सकते हैं , समय को पीछे ले जा उस गलती को सुधारने की भी सोच सकते हैं । लेकिन एक जीते जागते इंसान को खोकर हम कभी गिल्ट नहीं फील करते । हमारा अभिमान हमें ये इजाज़त ही नहीं देता कि हम अपनी गलती देख सकें । आज की इस मशीनी दुनिया में अगर रिश्तों में भी हम ऐसे ही अपनी गलती देखने लगें और गिल्ट फील करने लगें तो हमारी दुनिया इससे भी हसीन और खूबसूरत हो सकती है ।

Language: Hindi
Tag: लेख
5 Likes · 4 Comments · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
Shweta Soni
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
VEDANTA PATEL
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
रुसवा दिल
रुसवा दिल
Akash Yadav
जीवन की परख
जीवन की परख
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी भी वार्तालाप की यह अनिवार्यता है कि प्रयुक्त सभी शब्द स
किसी भी वार्तालाप की यह अनिवार्यता है कि प्रयुक्त सभी शब्द स
Rajiv Verma
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
जिस बस्ती मेंआग लगी है
जिस बस्ती मेंआग लगी है
Mahendra Narayan
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकथा / #गुस्सा
#लघुकथा / #गुस्सा
*Author प्रणय प्रभात*
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
Loading...