Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2020 · 1 min read

” गिलहरी की कहानी “

?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️

आओ बच्चों तुम्हें सुनाए ,
एक गिलहरी की कहानी ।

भूरे रंग की थी गिलहरी रानी ,
हमेशा करती रहती कूदा – फानी ,

कुतर – कुतर कर दाना खाती ,
लंबी – मोटी पूंछ को हिलाती ।

क्हूक – क्हूक कर गाना गाती ,
हमें देख फुर्र पेड़ पर चढ़ जाती ।

दोनों हाथों को ऊपर उठाती ,
दोनों पैरों पर खड़ी हो जाती ।

बच्चों ये है गिलहरी रानी की कहानी ,
ये सुनी तुमने ज्योति की जुबानी ।

?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️?️

? धन्यवाद ?

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

5 Likes · 2 Comments · 558 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ज्योति
View all
You may also like:
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अवसर
अवसर
Neeraj Agarwal
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
*** रेत समंदर के....!!! ***
*** रेत समंदर के....!!! ***
VEDANTA PATEL
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
वो तो हंसने हंसाने की सारी हदें पार कर जाता है,
वो तो हंसने हंसाने की सारी हदें पार कर जाता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
Manoj Mahato
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYA PRAKASH SHARMA
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ सुन भी लो...!!
■ सुन भी लो...!!
*प्रणय प्रभात*
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
जिस आँगन में बिटिया चहके।
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
"चुनाव"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
Loading...