Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2020 · 2 min read

नकल में सहायता

मैं उस वक़्त तीसरी कक्षा में पढ़ता था। मुझसे बड़े भाई पास के उच्च विद्यालय में नौंवी के छात्र थे। बड़े होने का थोड़ा रौब भी रखते थे मुझ पर।

एक दिन उनकी वर्षिक परीक्षा के दौरान, उन्होंने मुझे बड़े प्यार से बुलाया और मेरे अलुमिनियम के बक्से, जिसे मैं स्कूल ले जाता था, में अपनी दो अंग्रेजी की पुस्तकें डाल दी और ये हिदायत भी दी कि स्कूल शुरू होने के ठीक एक घंटे बाद जब पहली घंटी बजेगी , तो ये किताबें लेकर उनके स्कूल के पिछले गेट पर पहुंच जाऊं, जहां मुड़ी, चपटी वाले का खोमचा लगा रहता है।

उस दिन,अपने स्कूल पहुंच कर मेरा मन पढाई मे बिल्कुल भी नही लग रहा था। रह रह कर मेरा ध्यान उनकी हिदायत पर और कान स्कूल की घंटी पर लगे हुए थे कि घंटी की आवाज़ आते ही अपने बक्से को लेकर मैं सरपट दौड़ पडूँ।

आज भाईचारा दिखाने और उनकी नज़र में उठने के इस मौके को , किसी भी तरह की लापरवाही से, मैं नहीं गंवा सकता था।

खैर , नियत समय पर घंटा बजा और मैं भी बताई हुई जगह पर एक कर्मठ सहायक की तरह पहुंचा बैठा था।

वे आये और अपनी पुस्तकों के कुछ पन्ने जल्दी जल्दी पलटने लगे, फिर लौटते वक्त अपनी जेब से 10 पैसे का सिक्का मेरे हाथ में थमा दिया।

उस पैसे की चने की चपटी का ठोंगा लेकर जब मैं
अपनी स्कूल की ओर लौट रहा तब इस विजयी भाव के साथ खुद को ये तर्क भी दिए जा रहा था कि भाई का सब पढ़ा हुआ तो था ही, वो तो बस पुस्तक के कुछ अंश दोहराने ही आये थे। चने की चपटी मेरे दांतो के बीच बजती हुई मेरी हाँ में हाँ मिला रही थी!!

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 482 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Umesh Kumar Sharma
View all
You may also like:
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
बहुत
बहुत
sushil sarna
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
????????
????????
शेखर सिंह
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
"टमाटर" ऐसी चीज़ नहीं
*प्रणय प्रभात*
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
Loading...