Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

गाँव पर ग़ज़ल

था सब आँखों में मर्यादा का पानी याद है हमको
पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको।

भले खपरैल छप्पर बाँस का घर था हमारा पर
वहीं पर थी सुखों की राजधानी याद है हमको

वो भूके रहके ख़ुद महमान को खाना खिलाते थे
ग़रीबों के घरों की मेज़बानी याद है हमको

हमारे गाँव की बैठक में क़िस्सा गो सुनाता था
वही हामिद के चिमटे की कहानी याद है हमको

सलोना और मनभावन शरारत से भरा बचपन
अभी तक मस्त अल्हड़ ज़िंदगानी याद है हमको

हमें सोने से पहले रात को अम्मा बताती थी
कि रहती चाँद पर इक बूढ़ी नानी, याद है हमको

सितारों की लिए बारात सज के चाँद आता जब
महकती गाँव की वो रात रानी याद है हमको

नाथ सोनांचली

Language: Hindi
3 Likes · 5 Comments · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"ऐसी कोई रात नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ व्यंग्य / आया वेलेंटाइन डे
■ व्यंग्य / आया वेलेंटाइन डे
*Author प्रणय प्रभात*
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
रे मन
रे मन
Dr. Meenakshi Sharma
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
gurudeenverma198
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राम-राज्य
राम-राज्य
Shekhar Chandra Mitra
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
Dr Archana Gupta
★मृदा में मेरी आस ★
★मृदा में मेरी आस ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
कीजै अनदेखा अहम,
कीजै अनदेखा अहम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
आदमी बेकार होता जा रहा है
आदमी बेकार होता जा रहा है
हरवंश हृदय
Loading...