Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 4 min read

“गाँव की सड़क”

यह कहानी है उस गाँव की जिसमे हर साल या तो अकाल पड़ता था या फसल कम होती थी. मगर गाँव के लोग बड़े खुद्दार थे. वे अपनी माटी को माँ की तरह पूजते थे. और माँ जो दे, जितना दे उसी में सन्तुष्ट रहते थे. ना सरकार से और ना ही अपने नसीब से कोई शिकायत. गाँव में एक छोटा सा बाजार हुआ करता था, जहाँ से उनको जरूरत का हर सामान मिल जाया करता था. छोटे गाँव का एक छोटा सा पंचायत भवन था. उससे सटी एक प्राईमरी स्कूल थी. अस्पताल की जगह एक नाडी वैध थे, मंदिर, पोस्ट ऑफिस, प्याऊ, कुआ, पशुओं के लिए एक तालाब, यानि पुराने जमाने के गाँव की तरह ये गाँव भी आधुनिक सुख सुविधाओं से वंचित था मगर सब लोग मिल जुल कर सामाजिक संरचना के अतिरिक्त एक दूसरे के सुख दुःख में परिवार की तरह रहते थे. कुल मिला कर सब लोग अभाव में भी अपने हालात से सन्तुष्ट थे. समय का चक्र अपनी रफ्तार से चल रहा था. सरकारी योजना के तहत गाँव की पंचायत एवं पोस्ट ऑफिस को एक एक टेलीफोन आवंटित हुआ. डिपार्टमेंट के अधिकारी आये उन्होंने सरपंच, पोस्टमास्टर, स्कूल मास्टर, वैधजी, और कुछ गणमान्य लोगों को उसके उपयोग के बारे में बताया. कई दिन तक उसकी चर्चा चलती रही फिर सब नोर्मल हो गया. कुछ समय बाद एक बस उस गाँव से होकर शहर आने जाने लगी, बस सुबह शहर जाती और शाम ढले लौटती. गाँव के दुकानदारों को इससे बड़ा फायदा हुआ. जहाँ उन लोगों को ऊंट गाड़े या बैल गाड़ी से भोर में निकलना पड़ता था और देर रात वापिस आ पाते थे, ज्यादातर समय तो यात्रा में ही बीत जाता था, और फिर सर्दी, गर्मी, बरसात, आंधियां जैसी कई मुसीबतों का सामना भी करना पड़ता था. उनके लिए तो ये वरदान साबित होने लगी. गाँव वालों के रिश्तेदार जो अन्य गाँवों में रहते थे जब उन्हें पता चला तो वे भी खुश हुए, लेकिन जहाँ सुविधाएँ आती है तो परेशानियां भी साथ में आती ही है. पहली समस्या आई वैध जी को. जहां सब लोग उन्हें ही भगवान मानते थे अब वे इलाज के लिए शहर जाने लगे, अब शहर जाने लगे तो कई बार घर में उपयोग होने वाली वस्तुएं भी वहीँ से लाने लगे. इस तरह से गाँव में साईकिल, गाड़ी, मिक्सी, रेडीमेड कपड़े, फोन, टीवी और भी कई वस्तुएं आने लगी. गाँव के लोग अब शहर में काम करने जाने लगे. जिससे लोगों का रहन सहन जो सामान्य था वो मध्यम होने लगा मकान कच्चे से पक्के बनने लगे। नाई की दूकान, पान का गल्ला, कोस्मेटिक की दुकानों में भी आधुनिकता नजर आने लगी. धीरे धीरे गाँव के लोग देश और दुनिया से जुड़ने लगे. शिक्षा का स्तर भी सुधरा. गाँव की स्कुल प्राईमरी से माध्यमिक हो गई. जिससे आस पास के गाँवों के बच्चे भी पढने आने लगे, गाँव की रौनक चौगनी हो गई, अब मौहल्ले के गुवाड़ शाम ढलते ही बच्चों से भर जाते थे. समय अपनी गति से चलता रहता है. गाँव में पक्की सड़क बन गई. कहने को तो यह विकास के पथ पर अग्रसर होना था मगर गाँव के लिए यह सड़क शुभता लेकर नहीं आई. जहाँ दिन में एक बार बस आती थी अब उसके चार चक्कर लगने लगे. लोग शादी विवाह में खरीदी शहर से करने लगे, शहर से रेलगाड़ी जाती थी जिससे लोग दिल्ली, कलकत्ता, आसाम, मुम्बई, सूरत आदि जगहों पर नौकरी, व्यापार के लिए जाने लगे. चुनावों में भी अब नेता लोग आने लगे. छोटी पंचायत अब बड़ी हो गई. खेती सिर्फ चार महीने होती थी बाकी समय गाँव के युवा शहर में काम करने जाने लगे जिससे उनकी आमदनी बढ़ने लगी, उनका जीवन स्तर मध्यम से उच्च मध्यम होने लगा, बच्चे उच्च शिक्षा पाने लगे, उन्हें सरकारी नौकरी मिलने लगी, मकान भी पक्के और दो मंजिला बनने लगे. कुल मिला कर ये कहना पडेगा कि गाँव की सूरत बदलने लगी और आधुनिकता हर घर में घुसने लगी. एक तरफ सड़क पक्की क्या हुई मानो गाँव को नजर लग गई और दूसरी तरफ देश दुनिया में नये नये आविष्कार हो रहे थे. जिससे कल तक जो लोग शहर की तरफ आकर्षित हो रहे थे वे अब देश विदेश भी जाने लगे. शास्त्र कहते हैं “पहला सुख निरोगी काया, दूजा सुख हाथ में माया” जिसके परिणाम स्वरूप लोग अपने परिवार सहित शहरों में रहने के लिए जाने लगे. युवा शहर जाने लगे और बुजुर्ग गाँव में रहने लगे जिसके कारण धीरे धीरे आम आदमी के हाथ से खेती छूटने लगी. आज उस गाँव की हालत यह है कि उस गाँव के कई लोग करोड़पति, अरबपति है, उस गाँव में हर वो सुविधा है जो एक बड़े शहर में है परन्तु नहीं है तो वे लोग या उनके बच्चे जो कभी उसके गुवाड़ की माटी में खेलते थे. वो गाँव की सड़क जिसने कभी उन्हें शहर का रास्ता दिखाया था वो आज कडकडाती सर्दी में, चिलचिलाती धूप में, बरसती बरसात में, चलती आँधियों में अपनों की राह देख रही है. शायद उसे पता नहीं कि जो एक बार चले जाते हैं वो लौट कर नहीं आते. मित्रों वो कोई और नहीं आप और हम हैं, वो गाँव किसी और का नहीं हमारा अपना है. जीवन में एक बार फिर से मुड़ कर उससे मिलने अवश्य जाइयेगा. उसे अच्छा लगेगा और आपको भी…

2 Likes · 2 Comments · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
💐Prodigy Love-16💐
💐Prodigy Love-16💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
"बात हीरो की"
Dr. Kishan tandon kranti
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2293.पूर्णिका
2293.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उम्र निकलती है जिसके होने में
उम्र निकलती है जिसके होने में
Anil Mishra Prahari
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
The right step at right moment is the only right decision at the right occasion
The right step at right moment is the only right decision at the right occasion
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
हम उनसे नहीं है भिन्न
हम उनसे नहीं है भिन्न
जगदीश लववंशी
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
मनोज कर्ण
दो पल का मेला
दो पल का मेला
Harminder Kaur
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
"हल्के" लोगों से
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
नानखटाई( बाल कविता )
नानखटाई( बाल कविता )
Ravi Prakash
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा लेख
मेरा लेख
Ankita Patel
अच्छे दिन
अच्छे दिन
Shekhar Chandra Mitra
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
Loading...