Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

गाँव का दृश्य (गीत)

शहरों को छोड़ आप जो सँग मेरे आयेंगे
मंज़र सुहाना गाँव का हर दिन दिखायेंगे

कारों बसों का शोर न कोई धुँआ यहाँ
सरगम का राग छेड़ती बैलों की घण्टियाँ
कोयल की तान मैना की बोली सुनायेंगे
मंज़र सुहाना गाँव का हर दिन
दिखायेंगे
शहरों को छोड़०—-

बर्गर न पिज़्जा केक नहीं चाउमीन है
अपने यहाँ तो गेहूँ का आँटा हसीन है
सरसों का साग मक्के की रोटी खिलायेंगे
मंज़र सुहाना गाँव का हर दिन दिखायेंगे
शहरों को छोड़०——-

सरसों के पीले खेत हैं गेहूँ की बालियाँ
मकरन्द लेती रंग- बिरंगी हैं तितलियाँ
जंगल पहाड़ वादियाँ नद्दी घुमायेंगे
मंज़र सुहाना गाँव का हर दिन दिखायेंगे
शहरों को०—–

कॉफी न चाय लिम्का न पेप्सी की बोतलें
आईसक्रीम कुल्फ़ी के भूलोगे चोंचले
शरबत पिलाऊँ छाछ भी ताज़ा पिलायेंगे
मंज़र सुहाना गाँव का हर दिन दिखायेंगे
शहरों को छोड़०—–

प्रीतम श्रावस्तवी
जनपद- श्रावस्ती

Language: Hindi
Tag: गीत
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
हर सीज़न की
हर सीज़न की
*Author प्रणय प्रभात*
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
हम तो किरदार की
हम तो किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
Chandra Kanta Shaw
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" जलचर प्राणी "
Dr Meenu Poonia
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
Loading...