Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-169💐

ग़र सब फ़साद है और सब बवाल है
तो इश्क़ इक झूठा सवाल है ज़बाब है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
पूर्वार्थ
प्री वेडिंग की आँधी
प्री वेडिंग की आँधी
Anil chobisa
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
Johnny Ahmed 'क़ैस'
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
#शेर_का_मानी...
#शेर_का_मानी...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दूषित न कर वसुंधरा को
दूषित न कर वसुंधरा को
goutam shaw
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
gurudeenverma198
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
Loading...