Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-316💐

ग़म की लहरों से भी महरूम किया गया,
जबर बनके कहा,मुस्कुराता चेहरा देखो।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
'अशांत' शेखर
मन के मंदिर में
मन के मंदिर में
Divya Mishra
टिकट नहीं रहा (हास्य-व्यंग्य)
टिकट नहीं रहा (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
■ अटपटी-चटपटी...
■ अटपटी-चटपटी...
*Author प्रणय प्रभात*
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिपाही
सिपाही
Buddha Prakash
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Anurag Ankur
वह नही समझ पायेगा कि
वह नही समझ पायेगा कि
Dheerja Sharma
कोरा रंग
कोरा रंग
Manisha Manjari
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
आत्मा शरीर और मन
आत्मा शरीर और मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
Shubham Pandey (S P)
वर्षा ऋतु
वर्षा ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
Shakil Alam
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन से मन को मिलाओ सनम।
मन से मन को मिलाओ सनम।
umesh mehra
उसे कमज़ोर नहीं कह सकते
उसे कमज़ोर नहीं कह सकते
Dr fauzia Naseem shad
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
Loading...