Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

ग़म-ए-दिल….

बेदर्द है, बेजान हैं
मेरे दिल को सबसे पहचान है
कभी टूट जाता है
कभी रूठ जाता है
पता नहीं क्यों यह मेरे शरीर में बेजान रह जाता है?

गम की तवारीख़
मेरे मन में लिखा है,
लाखों पन्नों में इसे
मैंने सजों कर रखा है,
पता नहीं कब काम आ जाए
हर गम कहीं दुहरा ना जाए
शायद इसी काम में आए |

तम में जीना चाहता नहीं मैं
गम को दूर करना चाहता हूँ मैं
कैसे करूँ?
क्या करूँ?
कुछ समझ में नहीं आता मुझे,
पर खोज लूँगा मैं
कोई ना कोई तरकीब गम से निपटने का,
सुदृढ़ करूँगा अपने आप को मैं |

ये दुनिया हमें जीने नहीं देगी
जब तक हम ना प्रयासरत होंगे,
है हमें जीतना जीवन को
अंधड़ में भी प्रकाश फैलाकर
और जीवन को गुलाम बनाकर |

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंजान बनते हैं वो यूँ जानबूझकर
अंजान बनते हैं वो यूँ जानबूझकर
VINOD CHAUHAN
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-168दिनांक-15-6-2024 के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-168दिनांक-15-6-2024 के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
अश्रु (नील पदम् के दोहे)
अश्रु (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3001.*पूर्णिका*
3001.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*प्रणय प्रभात*
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...