Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल

212 212 212 2
जिंदगी कर चुकी थी बगावत
बात तक तो रही थी शराफत

क्या करें बात उनकी आज हम
पाल बैठे हमी से अदावत

सर्द रातें बड़ी जुल्म ढाए
भेज दी नींद मेरी अदालत

साथ मे चल पड़ो हाथ ले कर
आज ले कर चलेंगे इजाज़त

प्यार के नाम पर साथ दे दो
हो गयी आज थोड़ी हरारत

कौन अब तक हुआ है किसी का
वक्त तक कर रहा है शरारत

सब शिकायत सुनाते थे वो
पर कहाँ छोड़ पाए सदाकत

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा
9719260777

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
✍️ शेखर सिंह
✍️ शेखर सिंह
शेखर सिंह
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
3237.*पूर्णिका*
3237.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल _ सयासत की हवेली पर ।
ग़ज़ल _ सयासत की हवेली पर ।
Neelofar Khan
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
Sonam Puneet Dubey
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
ध्रुव तारा
ध्रुव तारा
Bodhisatva kastooriya
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
Loading...