Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

खीझ रिश्तों के दरमियाँ क्यों है ?
आदमी आज बद – जुवाँ क्यों है ?

बहकी-बहकी-सी दिख रही धरती,
मचला-मचला-सा आस्माँ क्यों है ?

भूख खाकर के मस्त हैं बच्चे,
आग ठंडी है पर धुआँ क्यों है ?

जबकि सूखा है प्यार का दरिया,
बाढ़ से पुरख़तर निशाँ क्यों है ?
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2747. *पूर्णिका*
2747. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रकृति
प्रकृति
Seema Garg
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
Neelam Sharma
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
शेखर सिंह
साथियों जीत का समंदर,
साथियों जीत का समंदर,
Sunil Maheshwari
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
अल्प इस जीवन में
अल्प इस जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
नया साल
नया साल
Mahima shukla
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब हम क्या करे.....
अब हम क्या करे.....
Umender kumar
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ओसमणी साहू 'ओश'
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही..
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही.. "जीवन
पूर्वार्थ
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
जब तुम
जब तुम
Dr.Priya Soni Khare
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
Loading...