Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

जिंदगी उतनी ही हमारी है ।
आपके साथ जो गुज़ारी है ।

शा’इरी है मेरे लिए मंदिर,
और उसका ये दिल पुजारी है ।

लोग बेकार शक किया करते,
रूह निर्दोष है , कुँवारी है ।

तीन तालों के मध्य जो बसता,
गाँव मेरा वही छिरारी है ।

एक ही दूध पी पले, लेकिन
आज रोटी बने न्यारी है ।
००
—- ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
2 Likes · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
■ मिली-जुली ग़ज़ल
■ मिली-जुली ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
shabina. Naaz
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
देख स्वप्न सी उर्वशी,
देख स्वप्न सी उर्वशी,
sushil sarna
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
manorath maharaj
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
"ॐ नमः शिवाय"
Radhakishan R. Mundhra
262p.पूर्णिका
262p.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...