Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

राग बसंती सुंदर बजता साँझ लगे सिंदूरी है।
माँ वसुधा को महकाने की अब तैयारी पूरी है।।

शोभा बगिया की बन आई सुंदर अद्भुत न्यारी सी-
सच है यह पर मुझ को लगती बिन सरताज अधूरी है।

कलियाँ शरमा कर हैं खिलती इत उत भौंरे भी उड़ते-
साजन मिलने को आजाओ ऐसी क्या मजबूरी है।

धरती से नभ भी मिलता है दूर क्षितिज में झुक झुकके-
हिरणों सा चंचल मन भागे ढूँढ रहा कस्तूरी है।

राह निहारे बैठे कब से अब संध्या आने वाली-
चाहे मन तुमसे जब मिलना क्यों बढ़ जाती दूरी है।

गोदाम्बरी नेगी

©️®️

Language: Hindi
1 Like · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोखली बुनियाद
खोखली बुनियाद
Shekhar Chandra Mitra
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
"जीवन का निचोड़"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
पूर्वार्थ
जय माँ जगदंबे 🙏
जय माँ जगदंबे 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
शाकाहार बनाम धर्म
शाकाहार बनाम धर्म
मनोज कर्ण
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
माय
माय
Acharya Rama Nand Mandal
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
2958.*पूर्णिका*
2958.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शायद शब्दों में भी
शायद शब्दों में भी
Dr Manju Saini
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
Loading...