Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

*ग़ज़ल*

ग़ज़ल
********

ज़माने से तू बेख़बर हो गया है।
मोहब्बत का जबसे असर हो गया है।।

दिवाना सा फ़िरता हमारी गली में।
तुझे रोग अब इस क़दर हो गया है।।

दुआ है ख़ुदा से तुझे इल्म दे दे।
मग़र सब दुआ बेअसर हो गया है।।

रहा उम्र भर संग तू उसकी जानिब।
अधूरा मग़र ये सफ़र हो गया है।।

कहानी मेरे “रहमत” लब से बयां है।
ग़ज़ल ये तुम्हारे नज़र हो गया है।।

ग़ज़ल ये तुम्हारी
शेख रहमत अली “बस्तवी”
बस्ती (उ, प्र,)

2 Likes · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
सोच विभाजनकारी हो
सोच विभाजनकारी हो
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
2586.पूर्णिका
2586.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
Suryakant Dwivedi
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
इस पार मैं उस पार तूँ
इस पार मैं उस पार तूँ
VINOD CHAUHAN
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Loading...