Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

*तू मेरी मंजिले मकसूद हमेशा की तरह।
दिल में मेरे है उछल कूद हमेशा की तरह।
निगाहे नाज़ से फिर देख लिया जब उसने
जल उठा फिर से वह बारूद हमेशा की तरह।
🌹
देखता हूं जब किसी सम्त उठाकर नजरें।
हर जगह मिलते हो मौजूद हमेशा को तरह।
🌹
बिना मतलब कोई मिलता ही नहीं है अब तो।
जो भी मिलता है वह बा सूद हमेशा की तरह।
🌹
आज के दौर की माएं अब फिटनेस खातिर।
अब पिलाती नही है दूध हमेशा की तरह।
🌹
किस तरह खुद को बचातीं वह मणिपुर वासी।
सारे वहशी थे कुल मौजूद हमेशा की तरह।
🌹
सगीर रहते हैं सदा अपने दायरे में हम।
खुद में ही रहते हैं महदूद हमेशा की तरह!*

Language: Hindi
1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2642.पूर्णिका
2642.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम सम्भलकर चलो
तुम सम्भलकर चलो
gurudeenverma198
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
"दूर तलक कोई नजर नहीं आया"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये गजल नही मेरा प्यार है
ये गजल नही मेरा प्यार है
Basant Bhagawan Roy
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
Bidyadhar Mantry
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Jeevan Ka saar
Jeevan Ka saar
Tushar Jagawat
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
पूर्वार्थ
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
Loading...