Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

#ग़ज़ल

#ग़ज़ल
■ दरबार मत कहिए…!!
【प्रणय प्रभात】

● ख़ुदारा यार मत कहिए।
हवस को प्यार मत कहिए।।

● जो पहली बार बोला है।
वो अगली बार मत कहिए।।

● बुज़ुर्गों का सहारा है।
इसे दीवार मत कहिए।।

● हों पैरोकार गर सच के।
गुलों को ख़ार मत कहिए।।

● सियासत की ज़ुराबें हैं।
इन्हें अख़बार मत कहिए।।

● फ़क़त झूठों की मंडी है।
इसे दरबार मत कहिए।।

● उलझ के जो सुलझ जाए।
उसे तक़रार मत कहिए।।

● बहुत गुमराह हैं राहें।
इन्हें हमवार मत कहिए।।

● कला बेचे, क़लम बेचे।
उसे फ़नकार मत कहिए।।

● तमाशाई हैं सब रिश्ते।
इन्हें ग़मख़्वार मत कहिए।।

● ग़मों की दास्तां है ये।
इसे त्यौहार मत कहिए।।

●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
1 Like · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी शक्ति.....एक सच
नारी शक्ति.....एक सच
Neeraj Agarwal
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
👌आह्वान👌
👌आह्वान👌
*Author प्रणय प्रभात*
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मूल्य मंत्र
मूल्य मंत्र
ओंकार मिश्र
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...